कोविड गाइड का पालन करते हुए संत करेंगे शाही स्नान-श्रीमहंत हरिगिरि

गोपाल रावत


हरिद्वार। श्रीपंच दशनाम जूना अखाड़ा के अन्र्तराष्ट्रीय संरक्षक एवं अखाड़ा परिषद के महामंत्री श्रीमहंत हरिगिरि जी ने कहा है कि कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है,देशभर में स्थिति चिन्ताजनक होती जा रही है,हरिद्वार में कुम्भ मेला चल रहा है,ऐसे में जूना अखाड़ा के तमाम साधु संत कोविड गाइड लाइन का पालन करते हुए शाही स्नान में शामिल होगा। उन्होने सभी साधु संतो से कोविड गाइड लाइन का पालन करने का आहवान करते हुए कहा कि सभी मिलकर इस महामारी से लड़ने में सहयोग करे। उन्होने केन्द्र एवं राज्य सरकार से कहा है कोरोना संक्रमण की तेजी से बढ़ती रफ्रतार को देखते हुए अभी से जरूरी कदम उठाये,ताकि संक्रमण के कारण व्यापारियों,मजदूर वर्गो को राहत मिल सके। कोरोना के बढ़ते संक्रमण पर चिन्ता जाहिर करते हुए कहा कि उन्होने पलायन की स्थिति दुबारा नही हो,के लिए भी जरूरी कदम उठाने का आग्रह किया है। कुम्भ मेला में श्रद्वालुओं की भीड़ के दृष्टिगत कोरोना के फैलने का ज्यादा खतरा है,लेकिन जूना अखाड़ा के सैकड़ों साधु नियमित रूप से लगातार यज्ञ,हवन कर देवी-देवताओं का आहवान कर रहे है,ताकि संक्रमण की रफ्रतार धीमी हो सके। उन्होने कहा कि तेजी से बढ़ रहे कोरोना के कारण संकट बढ़ रहा है,लेकिन अखाड़ो द्वारा शाही स्नान के दौरान कोविड गाइड लाइन का पालन किया जायेगा। पिछले कुछ दिनों में विश्वव्यापी महामारी कोविड19 यानि कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ने लगा है। देश में कोरोना की दूसरी लहर तेजी से फैल रही है।

श्रीमहंत हरिगिरि ने संक्रमण के तेज लहर को देखते हुए केन्द्र एवं राज्य सरकार से कोरोना के रोकथाम को लेकर अभी से व्यापक कार्ययोजना बनाते हुए धरातल पर ठोस कार्यवाही का आहवान किया है। उन्होने कहा कि विश्वव्यापी महामारी के कारण पहले ही व्यापारियों ,मजदूर वर्गो के साथ साथ अन्य वर्ग काफी प्रभावित हो चुके है,प्रभावित वर्ग इससे उबरने की कोशिश कर ही रहा था कि कोरोना की दूसरी लहर ने एक बार फिर से सभी के लिए तनाव की स्थिति बना दी है। ऐसी स्थिति में पलायन की संभावना भी तेजी से बढ़ने की संभावना है।,इसलिए ऐसी स्थिति बनने से पहले ही सरकार ठोस नीति बनाये,ताकि संक्रमण का सामना हर वर्ग मजबूती से कर सके। उन्होने लोगों से भी कोविड गाइड लाइन का पालन करते हुए सहयोग करने की अपील की है।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *