हरिद्वार में कोरोना कर्फ्यू के बंद असर,जानिये

सुमित यशकल्याण

हरिद्वार में कोरोना कर्फ्यू का अधिकार व्यापक असर बंद रहे बाजार सड़कों पर भी कम रही आवाजाही


हरिद्वार। कोरोना का लगातार बढ़ता प्रभाव देखते हुए घोषित किए गए कोरोना कर्फ्यू का हरिद्वार जिले में व्यापक असर देखने को मिला इस दौरान सभी क्षेत्रों में दुकानें पूरी तरह बंद रहे जरूरी सामान की कुछ दुकानें दोपहर तक खुली थी, बाद में वह भी बंद कर दी गई ,सड़कों पर आवाजाही भी प्रभावित रही समाज के जिम्मेदार लोगों ने सभी से कोरोना के मद्देनजर एहतियात बरतने की अपील की है । कोरोना का प्रभाव लगातार बढ़ता जा रहा है और हालात लगातार बिगड़ते जा रहे हैं ऐसे में खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को भी आगे बढ़कर संतों से कुंभ जैसा महा आयोजन सांकेतिक करने की अपील करनी पड़ी साथ ही सरकार ने स्थिति से निपटने के लिए पूरे प्रदेश में रात्रि कर्फ्यू के साथ ही रविवार को पूरे दिन का कोरोना कर्फ्यू भी लागू किया। स्थिति की गंभीरता और खुद प्रधानमंत्री की अपील को ध्यान में रखते हुए आम आदमी भी सरकार के साथ कदम से कदम मिलाकर खड़ा हो गया है रविवार को हरिद्वार जनपद में कर्फ्यू का व्यापक असर दिखाई दिया।

हरिद्वार शहर ज्वालापुर, कनखल, बीएचएल बहादराबाद, पथरी क्षेत्र श्यामपुर, सिडकुल रोशनाबाद के साथ-साथ रुड़की लक्सर मंगलोर भगवानपुर झबरेड़ा नारसन आदि ग्रामीण क्षेत्रों में भी व्यापक असर दिखाई दिया। इस दौरान सभी दुकानें बंद रही हालांकि सड़कों पर वाहनों की आवाजाही तो दिखाई देती रही लेकिन रोजमर्रा की तुलना में यह भी काफी कम थी बहुत कम लोग ही वाहन लेकर सड़कों पर उतरे क्योंकि आज कर्फ्यू का पहला दिन था इसलिए पुलिस ने भी बहुत ज्यादा सख्ती नहीं दिखाई लेकिन लोगों ने खुद ही इसे अपने दिल की आवाज मान लिया और अधिकतर लोग घरों से बाहर नहीं निकले सरकार द्वारा जारी किए गए आदेश के अनुसार दोपहर 1:00 बजे तक जरूरी सामान की दुकानें अवश्य खुली जो बाद में बंद कर दी गई ।
हरिद्वार नागरिक मंच के जिलाध्यक्ष जगदीश लाल पाहवा, वरिष्ठ समाजसेवी विशाल गर्ग, प्रेस क्लब हरिद्वार के अध्यक्ष दीपक नौटियाल सामाजिक कार्यकर्ता विभास मिश्रा श्री गंगा सभा के महामंत्री तन में वशिष्ठ और व्यापार मंडल के वरिष्ठ नेता कैलाश केसवानी आदि का कहना है कि जिस तरह से देश में कोरोना का संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है ऐसे में सावधानी बरतना बेहद जरूरी है। प्रधानमंत्री और गृहमंत्री की अपील को देखते हुए सभी को एहतियात बरतनी चाहिए उधर कुंभ क्षेत्र में भी प्रधानमंत्री और केंद्रीय गृहमंत्री की अपील का काफी असर देखने को मिला है बड़ी संख्या में साधु संत कुंभ की छावनियों को छोड़कर वापस लौटने लगे हैं।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *