बालाजी सेवा संस्थान कोरोना काल की दूसरी लहर में भी जरूरतमंदों को पहुँचा रहा मदद।

सुमित यशकल्याण

हरिद्वार। बालाजी सेवा संस्थान टीम द्वारा कोरोना प्रभावित लोगों को लगातार मदद दी जा रही है। कोरोना की दूसरी लहर के कारण फिर से लगभग सभी शहरो में कोरोना कर्फ़्यू लग चूका है, फैक्ट्रीयां खुली हैं, परंतु लगभग 30 प्रतिशत मज़दूर ही काम पर जा पा रहे हैं, चूंकि बाजार में सभी प्रोडक्ट्स की डिमांड नहीं है, अतः बहुत से श्रमिक बेरोजगारी की कगार पर जा रहे है, बालाजी सेवा संसथान करीब 15000 प्रवासी लोगों के साथ काम करते है एवं उन्हें हर तरह से जागरूक एवं सेवायें देने का कार्य भी बालाजी टीम कर रही है। पुनः बेरोजगार प्रवासी जिनका शहरी विकास एवं औद्योगिक विकास में महत्वपूर्ण योगदान रहता है भूखमरी के कगार पर हैं उनके लिए भोजन या राशन की मांग को देखते हुए बालाजी सेवा संस्थान टीम लगातार उनको मदद कर रही है। ज्ञात हो की गत वर्ष पहली लॉकडाउन अप्रैल से जून 2020 में बालाजी टीम ने 6200 से अधिक गरीब एवं प्रभावित परिवारों को मदद मुहैया करा चूका है, राशन का पुनः वितरण कार्यक्रम टीम द्वारा शुरु किया जा चूका है, इसके साथ ही बालाजी टीम सरकार द्वारा विकसित टेलीमेडिसिन पोर्टल संजीवनी के द्वारा भी लोगों का उपचार करवा रहे हैं, HIV-AIDS, TB patients को घर पर दवा एवं ART सेवाएं दिलवा रहे हैं, इसके साथ ही कम पढ़े-लिखे लोगों का वैक्सीनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन एवं जागरूकता का भी कार्य कर रहे हैं।
संस्था के प्रमुख अवधेश कुमार ने बताया कि हमारी टीम उत्तराखंड स्टेट एड्स कंट्रोल सोसाइटी एवं स्वास्थ्य विभाग के आभारी है कि उन्होंने हमारे संस्थान की टीम को फ्रंट लाइन वर्कर्स मानकर समय पर लगभग सभी वर्कर्स को दोनों डोज़ लेने में मदद की, हमारी बालाजी टीम सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का पूरी तरह पालन करती है एवं अपनी सुरक्षा पहले का भी पूरा ध्यान रखती है, इसी कारण लगातार अपने क्षेत्रो में काम करते हुए भी कोरोना संक्रमण से बचे हुए हैं।
इस बार ड्राई राशन में चावल, आटा, दालें, तेल, चायपत्ती, चीनी, नमक-मसाले आदि लगभग 15 दिनों के लिए एक फैमली के लिए प्रयाप्त राशन उपलब्ध कराया जा रहा है। बालाजी सेवा संसथान टीबी एवं HIV-एड्स पीड़ितों को मदद के अलावा तम्बाकू मुक्त उत्तराखंड के लिए भी कार्य कर रहे हैं इनका तम्बाकू मुक्त कुम्भ के आयोजन में महत्त्वपूर्ण भी योगदान रहा था।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *