हरिद्वार मे उठी सीपीयू को भंग करने की मॉग , किया प्रदर्शन ,

हरिद्वार/ हरीश कुमार

हरिद्वार/ प्रदेश मे आये दिन सीपीयू के नये कारनामो की वजह से अब जनता सीपीयू को भंग करने की मॉग करने लगी है। उत्तराखंड राज्य में आपराधिक गतिविधियों पर विराम लगाने के उददेश्य से सूबे मे सीपीयू का गठन किया गया था। लेकिन उत्तराखंड राज्य में जबसे सीपीयू का गठन हुआ है तबसे आम जनता, नागरिकों का मोटरवाईकल एक्ट के नाम पर उत्पीडन व शोषण किये जाने के घटनाओ का अंबार लगा हुआ है सीपीयू की कार्यशैली पर सवाल खडे करते हुए सीपीयू को भंग किये जाने की मांग को लेकर हरिद्वार मे आज सामाजिक दूरी के साथ विरोध प्रदर्शन करते हुए पूर्व कृषि उत्पादन मंडी समिति अध्यक्ष, वरिष्ठ भाजपा नेता संजय चोपड़ा के संयोजन में पुरानी सब्ज़ी मंडी स्थित प्रांगण में वृक्षारोपण कर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत व सरकार से मांग की उत्तराखंड राज्य सीपीयू पुलिस के गठन को जनहित में भंग किये जाने की मांग की है ।

इस अवसर पर पूर्व कृषि उत्पादन मंडी समिति अध्यक्ष, भाजपा नेता संजय चोपड़ा ने कहा उत्तराखंड राज्य में जबसे सीपीयू पुलिस का गठन हुआ है तबसे आम नागरिकों के उत्पीडन व शोषण की घटनाएं दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है सीपीयू पुलिस की कार्यशैली आम मित्र पुलिस की शाख पर भी बट्टा लगा रही है जोकि दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा हाल ही में सीपीयू द्वारा कुमाऊ रेंज में एक युवक के साथ अमानवीय घटना को अंजाम दिया गया इससे कही ना कही सीपीयू की कार्यशैली पर सवाल खड़े हो रहे है। उन्होंने यह भी कहा हरिद्वार के व्यापारी द्वारा हेलमेट, मास्क व सारे कागज़ दिखाने के बावजूद भी संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया जाना निंदनीय है। चोपड़ा ने कहा उत्तराखंड राज्य में आम मित्र पुलिस की छवि को धूमिल करने वाले सीपीयू पुलिस का राज्य में बने रहने का कोई औचित्य नही है, राज्य सरकार को सीपीयू का जब से गठन हुआ है तब से लेकर अब तक की कार्यशैली की जांच कराकर जनहित में सीपीयू पुलिस विभाग को भंग किया जाना जनता के लिए न्यायसंगत होगा।

सीपीयू पुलिस की कार्यशैली व आम जनता के उत्पीडन व शोषण के खिलाफ वृक्षारोपण कर विरोध प्रदर्शन करने मे कुलदीप खन्ना, अखिलेश, राजेश अरोड़ा, राधेश्याम, हंसराज दुआ, दिनेश कुमार, मोहनलाल, काजू बिहारी, राजकुमार, वीरेंद्र रावत, राधेश्याम रतूड़ी आदि शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *