हरिद्वार में 26 अगस्त को होगी अखाड़ा परिषद की अहम बैठक, राम मंदिर भूमि पूजन के बाद इस बार की बैठक बहुत खास,

हरिद्वार / हरीश कुमार

हरिद्वार। कुम्भ मेला 2021 को लेकर अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद की एक महत्वपूर्ण बैठक 26 अगस्त को श्रीपंच दशनाम जूना भैरव अखाड़ा में मायादेवी मन्दिर में होने जा रही है। यह जानकारी देते हुए अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के महामंत्री श्रीमहंत हरिगिरि महाराज ने बताया कि बैठक में कुम्भ मेले के आयोजन को लेकर गंभीर विचार-विमर्श किया जायेगा तथा उसकी तैयारियों को लेकर सरकार तथा मेला प्रशासन को प्रस्ताव सौंपा जायेगा। उन्होने बताया कि इसके अतिरिक्त अन्य महत्वपूर्ण प्रस्तावो में अखाड़ा परिषद द्वारा राममन्दिर आंदोलन के साथ जिन कारसेवकों ने अपनी सर्वस्व बलिदान कर दिया और जिन कारसेवकों पर अभी तक विभिन्न अदालतों में मुकदमें चल रहे है,उन्हे तत्काल वापस लिये जाने की केन्द्र तथा प्रदेश सरकारों से मांग की जायेगी।


इस प्रस्ताव को अखाड़ा परिषद द्वारा प्रधानमंत्री नरेन्द्र भाई मोदी को दिल्ली जाकर दिया जायेगा। उन्होने कहा राम जन्म भूमि आंदोलन के नायक युगपुरूष अशोक सिंघल की स्मृति में अखाड़ा परिषद द्वारा देशभर में मुख्य तीर्थस्थलों पर कीर्ति स्तम्भ स्थापित किए जाने तथा पर कारसेवा के दौरान शहीद हुए कार सेवकों तथा उन सभी कार सेवकों के नाम अंकित किए जाने का प्रस्ताव भी लाया जायेगा। जिन कारसेवकों ने रामजन्म भूमि आंदोलन में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। श्रीमहंत हरि गिरि महाराज ने बताया कि गत दिनों मुख्य मंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत द्वारा सभी तेरह अखाड़ों में स्थायी निर्माण किए जाने हेतु एक एक करोड़ रूपये अनुदान स्वरूप दिए जाने की घोषणा की थी। यह निर्माण उन्हीं अखाड़ों में कराया जायेगा जिनके पास निजी भूमि उपलब्ध होगी। लेकिन जिन अखाड़ों के पास भूमि नही होगी उनके लिए भूमि क्रय किए जाने पर भी विचार- विमर्श किया जायेगा,ताकि उन अखाड़ों को भी स्थायी निर्माण का लाभ मिल सके।

इसके अतिरिक्त बैठक में मुख्य स्नान घाटों के नाम सभी तेरह अखाड़ों के इष्ट देवों के नाम पर रखे जाने,अखाड़ों में सरकार द्वारा कराए जाने वाले स्थायी निर्माण कार्यो को शीघ्र ही प्रारम्भ कराए जाने सम्बन्धी प्रस्तावो पर चर्चा की जायेगी। उन्होंने बताया कल प्रशासन द्वारा विगत दिनो गंगा को प्रदूषणमुक्त करने तथा नमामि गंगे परियोजना के अन्र्तगत गंगा स्वच्छता अभियान के लिए दिवंगत संतो के शवों को गंगा में प्रवाहित करने के स्थान पर भूसमाधि के लिए उपलब्ध करायी गयी भूमि पर आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराने तथा उसके किनारे घाट बनाए जाने सम्बन्धी प्रस्ताव पर भी चर्चा की जायेगी।श्री महंत हरि गिरि ने कहा बैठक में पारित सभी प्रस्तावों को लेकर अखाड़ा परिषद का प्रतिनिधिमण्डल मुख्यमंत्री से भेंट करेगा तथा उनके शीघ्र क्रियान्वयन की मांग करेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *