आपदा पीड़ितों को राहत पहुंचाने में राज्य सरकार विफल, पीड़ितों को 50, 50 लाख रुपए मुआवजा दिये जाने की मांग- अवतार सिंह भड़ाना

सुमित यशकल्याण


हरिद्वार। ज्योतिष एवं द्वारका शारदा पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती के आदेश पर उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर के विधायक व पूर्व सांसद अवतार सिंह भड़ाना के नेतृत्व में ज्योतिर्मठ सेवालय के प्रतिनिधिमंडल रैणी, तपोवन के आपदा प्रभावित पीड़ितों के परिजनों से मिला है । इस दौरान प्रतिनिधिमंडल ने पीड़ित परिजनों को हरसंभव सहायता उपलब्ध कराने का आश्वासन भी दिया । मौके पर ही एक पीड़ित महिला को अवतार सिंह भड़ाना ने आर्थिक सहायता भी उपलब्ध कराई। इस दौरान प्रतिनिधिमंडल ने 1 दर्जन से अधिक पीड़ित परिजनों से मुलाकात की ।

चमोली आपदा ग्रस्त क्षेत्र का दौरा करके यूपी के पूर्व सांसद और विधायक अवतार सिंह भड़ाना आज हरिद्वार पहुँचे। जहाँ कनखल स्थित शंकराचार्य मठ में प्रेस वार्ता कर चमोली आपदा रेस्क्यू को लेकर राज्य सरकार पर कई गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार चमोली आपदा में राहत कार्यों के प्रति गंभीर नही है।

अवतार सिंह भड़ाना ने प्रेस वार्ता में कहा कि वे शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती महाराज के निर्देश पर चमोली गए और आपदा ग्रस्त क्षेत्रों का दौरा कर आपदा पीड़ितों से मिले। उ उन्होंने कहा कि सरकार ने आपदा पीड़ितों के लिए कोई व्यवस्था नही की है केवल राहत के नाम पर दो चार दिन का राशन पीड़ित परिवारों को दिया जा रहा है। उन्होंने प्रदेश और केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि अगर समय रहते सरकार युद्ध स्तर पर रेस्क्यू ऑपरेशन चलती तो स्थितया कुछ और होती। उन्होंने कहा कि सरकारी आंकड़ों के हिसाब से हताहतों की संख्या 200 बताई जा रही है जबकि स्थानीय लोगो के अनुसार यह संख्या ज्यादा हो सकती है।उन्होंने कहा कि उन्होंने जब चमोली के स्थानीय लोगो से बात की तो वे लोग सरकार के कार्य से संतुष्ट नजर नही आये। उन्होंने बताया कि उनके द्वारा भारत सरकार के गृह मंत्री और उत्तराखंड के चीफ सेक्रेटरी को पत्र लिखकर स्थिति के बारे में बताया है और मांग की है कि सरकार चमोली आपदा में अपनी जान गवाने वाले लोगो के परिजनों को 10 लाख रुपये मुआवजा दे और जिस कंपनी का कार्य करते हुए लोग हताहत हुए है कंपनी उन्हें 50 लाख रुपये का मुआवजा दे। साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार की जितनी अनदेखी चमोली की आपदा में देखने को मिली है उससे पहले कभी देखने को नही मिली।

इस मौके पर ब्रह्मचारी रामानंद जी, ब्रह्मचारी सर्वानंद , ब्रजेश सती आदि उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *